.
Skip to content

किनारा हो जाऊँगी..

मोनिका भाम्भू कलाना

मोनिका भाम्भू कलाना

गज़ल/गीतिका

January 14, 2017

बाहर का तम दिल के जितना घना नहीं,
डूबी इसमें तो पार हो ही जाऊँगी ।

तुम नहीं जानते मेरी तड़प किसलिए हैं,
जिंदा हूँ मगर ज़िन्दगी के लिए मर जाऊँगी ।

मेरी ख़ामोशी का सबब तुम्हे मालूम नहीं,
मैं मौन होकर कैसे तेरी धड़कन गुंजाऊंगी ।

तू सलामत रहे, तेरी हिम्मत बनी रहे,
मेरा कोई नहीं किसी दिन आवारा हो जाऊँगी ।

कतरा-कतरा बिखरने की आदत है मेरी,
मैं कश्ती हूँ खुद ही किनारा हो जाऊँगी । ।

Author
मोनिका भाम्भू कलाना
कभी फुरसत मिले तो पढ़ लेना मुझे, भारी अन्तर्विरोधों के साथ दृढ़ मानसिकता की पहचान हूँ मैं..॥
Recommended Posts
छूना नहीं आकर मुझे , मैं भीगी रात की ओस हूँ , कतरा -कतरा बिखर जाऊँगी , हूँ नन्ही सी कोमल एहसास , सम्भाल कर... Read more
हिंदुस्तान की बिटिया मैं.......... तेरी दीवानी हूँ |गीत| “मनोज कुमार”
हिंदुस्तान की बिटिया मैं हिन्दी बोली जानी हूँ मेरी भारत धरती माँ मैं तेरी दीवानी हूँ हिंदुस्तान की बिटिया मैं...................................... तेरी दीवानी हूँ नैनों में... Read more
मेरे प्रभु
प्रभु हो प्रभु तुम, मेरे प्रभु हो। करुणा के सागर, दयालु बड़े हो। जहाँ भी मैं जाऊँ, तेरा दर्श पाऊँ। मुड़ के जो देखूँ, तुझे... Read more
ज़माने तेरी मिह्रबानी नहीं हूँ
शजर हूँ, तिही इत्रदानी नहीं हूँ चमन का हूँ गुल मर्तबानी नहीं हूँ ख़रा हूँ कभी भी मुझे आज़मा लो उतर जाने वाला मैं पानी... Read more