.
Skip to content

*कानहा की लीला *

सरस्वती कुमारी

सरस्वती कुमारी

हाइकु

February 27, 2017

कानहा की मुरली
तान है सुरिली
कर दे नशिली।

कानहा तेरी याद
कर दे आबाद
है ऐसी नाद ।

कानहा छेड़े पनघट
बुलाए यमुना तट
खोले घूँघट ।

कानहा मन के मीत
बढ़ाये हैं प्रीत
कैसी ये रीत ।

कानहा चले गोकुल नगरी
तोड़े गोपीयन की गगरी
मैं तो लाज से मरी।

कानहा चुराये घर-घर माखन
खाये मिल सब सखियन
ताना देत गवालन।

कानहा ने धारण किया गोवर्धन
किया प्रकृति का संरक्षण
हुआ इंद्र का मानमर्दन

कानहा की प्रिया राधा
हर ले सबकी बाधा
रहे न कोई आधा।

कानहा है छलिया
मारे है कालिया
गूँजे गलियाँ।

कानह रचायो रास
करे सब महारास
यही है खास।

कानहा ने दिया गीता-ज्ञान
है यह जीवन का वरदान
हुआ दूर सारा अज्ञान ।

कानहा ने दिया कर्म -फल
किया जीवन सफल
है यही प्रतिफल।

Author
सरस्वती कुमारी
सरस्वती कुमारी (शिक्षिका )ईटानगर , पोस्ट -ईटानगर, जिला -पापुमपारे (अरूणाचल प्रदेश ),पिन -791111.
Recommended Posts
अभी पूरा आसमान बाकी है...
अभी पूरा आसमान बाकी है असफलताओ से डरो नही निराश मन को करो नही बस करते जाओ मेहनत क्योकि तेरी पहचान बाकी है हौसले की... Read more
आस!
चाँद को चांदनी की आस धरा को नभ की आस दिन को रात की आस अंधेरे को उजाले की आस पंछी को चलने की आस... Read more
इंसानियत से इंसान पैदा होते है !
एक बूंद हूँ ! बरसात की ! मोती बनना मेरी फिदरत ! गर मिल जाए, किसी सीपी का मुख खुला ! मनका भी हूँ... धागा... Read more
अंदाज़ शायराना !
जैसा सम्मान हम खुद को देते है ! ठीक वैसा ही बाहर प्रतीत होता है ! जस् हमें खुद से प्रेम है ! तस् बाहर... Read more