.
Skip to content

***** कव्वाली ******

भूरचन्द जयपाल

भूरचन्द जयपाल

कव्वाली

January 18, 2017

? जीना हुआ दुस्वार यारां
मौत भी ना आयी ।
जीना बडा है मुश्किल-2
मरना भी है ना आसां ।
बर्बाद-ए-जिंदगी करके
तुमने किया किनारा ।
जीना हुआ है मुश्किल-2
मौत भी ना आये हाये !
तुमने तो जिंदगी जी ली
हम पे ये मौत छायी । ओ यारां
अब तूं ही बता कैसे जीयें
ये मौत न बाज आये ।
जीना किया है मुश्किल
मरना भी दुस्वार यारां ।
जीना हुआ दुस्वार यारा
मौत भी ना आयी ।। ?मधुप बैरागी

Author
भूरचन्द जयपाल
मैं भूरचन्द जयपाल सेवानिवृत - प्रधानाचार्य राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय, कानासर जिला -बीकानेर (राजस्थान) अपने उपनाम - मधुप बैरागी के नाम से विभिन्न विधाओं में स्वरुचि अनुसार लेखन करता हूं, जैसे - गीत,कविता ,ग़ज़ल,मुक्तक ,भजन,आलेख,स्वच्छन्द या छंदमुक्त रचना आदि में... Read more
Recommended Posts
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है मगर छन भी आती कहीं रोशनी है न करती लबों से वो शिकवा शिकायत मगर बात नज़रों से... Read more
निकलता है
सुन, हृदय हुआ जाता है मृत्यु शैय्या, नित स्वप्न का दम निकलता है। रोज़ ही मरते जाते हैं मेरे एहसास, अश्क बनकर के ग़म निकलता... Read more
आस!
चाँद को चांदनी की आस धरा को नभ की आस दिन को रात की आस अंधेरे को उजाले की आस पंछी को चलने की आस... Read more
मुक्तक
होते ही शाम तेरी प्यास चली आती है! मेरे ख्यालों में बदहवास चली आती है! उस वक्त टकराता हूँ गम की दीवारों से, जब भी... Read more