Skip to content

कविता –एकला चलो रे —

drpraveen srivastava

drpraveen srivastava

कविता

August 29, 2017

एकला चलो रे

बचपन मे रेडियो पर रवीन्द्र संगीत सुनता था
बंगला भाषा ना जानते हुए भी गुनता था
एकला चलो रे गुरु देव का यह गीत आज भी गुनगुनाता हूँ ।
और अपने को बहुत अकेला पाता हूँ ।
मुझे राह मिली ना मंजिल , परंतु यह गुरु मंत्र मेरे बहुत कम आ रहा है ,
जब भी मैं उदास अकेला होता हूँ
कुछ पाने की चाह लिए मै अपना जीवन जीने के लिए निकलता हूँ
तो भीड़ का करुण क्रंदन , गरीबी के बोझ तले
दबा मैला कुचैला बचपन ,
सहारे के लिए तरसता बुढ़ापा
और जीवन मे कुछ करने की आस लिए मैं
देखता हूँ अपने साथियों, मित्रो को
तब गुरुदेव मुझसे कहते हैं
एकला चलो रे ।
जीवन के संग्राम मे बिना माया –मोह के
बिना राग-द्वेष तृष्णा के एकला चलो रे
एकला चलने से कारवां बनता है
नित्य नया नेतृत्व निकलता है
आशा और प्यार मे स्नेह पलता है
जीवन का नवगीत सृजित होता है
तब हर गुरुमंत्र यही कहता है
एकला चलो रे ।
मेरे एकला चलने मे ही यथार्थ है
वरना मेरे लिए सब माया जाल है ।
मेरे विश्वास अविश्वास बनते रहेंगे ,
लोग मेरे कान भरते रहेंगे ,
मैं अपना परायापहचान भी ना पाऊँगा
मैं जीवन जीने की कला जान भी ना पाऊँगा ।
तटस्थ राह कर भी मेरा जीवन संघर्षमय है ,
केवल मेरे साथ एक गुरुमंत्र है ,
एकला चलो रे , एकला चलो रे

डा प्रवीण कुमार श्रीवास्तव

Author
Recommended Posts
मैं रोते हुएे जब अकेला रहा हूँ
कहाँ और कब कब अकेला रहा हूँ मैं हर रोज़ हर शब अकेला रहा हूँ मुझे अपने बारे में क्या मशवरा हो मैं अपने लिए... Read more
अकेले - अकेले
(((( अकेले-अकेले )))) हम हैं, अकेले ही सही, हम अकेले चले ये जग जीतने ! जब आस जगे, बिश्वास जगे, तब जाके यहाँ कोई बात... Read more
अलबेला हूँ
अलबेला हूँ ! भीड़ में खड़ा हूँ, फिर भी अकेला हूँ कदाचित इसीलिए मै अलबेला हूँ ! ! शोरगुल में धँसा पड़ा हूँ आफतो में... Read more
मै श्रमिक हूँ
संदर्भ :- प्रस्तुत कविता देश के उस वर्ग के लिए है जो वास्तव मै देश का निर्माण करता है परंतु हमेशा छला जाता है.........आशा करता... Read more