Skip to content

उपदेश– कालु काल बीच महापाप हो रहे

गंधर्व लोक कवि श्री नंदलाल शर्मा

गंधर्व लोक कवि श्री नंदलाल शर्मा

कविता

January 18, 2017

श्री नंदलाल जी ने एक रागनी मे कलयुग का वृतांत बहुत ही सुंदर तरीके से किया है!

टेक— कलुकाल के बीच महा पाप हो रहे,भाई किसी का ना दोष दुखी आप हो रहे।

(1)– धर्म कर्म तजया ज्ञान ध्यान भूलगे,
बुद्धि के मलिन खान-पान भूलगे,
मात-पिता गुरु का सम्मान भूलगे,
कैसे हो कल्याण करना दान भूलगे,
यज्ञ हवन पुण्य बंद जाप हो रहे।

(2)– रह्या ना विचार बुद्धि मंद हो गई,
इन्हीं कारणों से वर्षा बंद हो गई,
शब्द स्पर्श रूप रस कम गंध हो गई,
इन पापों से प्रजा जड़ाजंद हो गई,
पुत्री के दलाल खुद बाप हो रहे।

(3)– ब्राह्मण गऊ संत का सतकार रहया ना,
परमेश्वर की भक्ति शक्ति धरम दया ना,
ऐसा छाया भरम रही शरम हया ना,
भाई वाल्मीकि व्यास जी असत्य कहया ना,
घर घर में अबलाओं के प्रलाप हो रहे।

(4)– देखो लाखों लाख नीत गऊ घात हो,
हो रहे भूकम्प बहोत गर्भपात हो,
ऊच नीच वरण सब एक जात हो,
कहते केशोराम सब विपरीत बात हो,
देख नंदलाल चुपचाप हो रहे।

कवि: श्री नंदलाल शर्मा जी
टाइपकर्ता: दीपक शर्मा
मार्गदर्शन कर्ता: गुरु जी श्री श्यामसुंदर शर्मा (पहाड़ी)

Author
Recommended Posts
आशियाना मिला जिंदगी मिल गई
आशियाना मिला जिंदगी मिल गई| तेरी तिरछी नजर से नजर मिल गई|| मंजिल भी मिली आशिकी मिल गई| इक रोते हुये को हँसी मिल गई||... Read more
ज़बरन  ही  हामी  भराई  गई  थी
ज़बरन ही हामी भराई गई थी शादी के मंडप बिठाई गई थी अजीब सी हालत थी दिल की मगर मुस्का कर फोटो खिचाई गई थी... Read more
मीरा .........
मेवाड़ के शुष्क धरातल पर, बन प्रेम का सागर छा गई मीरा। रेत के ऊंचे से टीलों के बीच, एक प्रेम की सरिता बहा गई... Read more
खुसी मिल गई
??खुसी मिल गई?? तुझे जबसे पाया तो लगा हर ख़ुशी मिल गई!! फिर से जीने की आरजू दिल में जग गई!! खो से गए थे... Read more