.
Skip to content

इश्क के खत तेरे- गीत

Kamlesh Sanjida

Kamlesh Sanjida

गीत

July 27, 2017

जो उजालों में न मिले , वो अंधेरों में मिले
इश्क के खत तेरे, बस किताबों में मिले

हमको न पता था , कि इस तरह से मिले
जब भी हमको मिले, वो उलझनों में ही मिले

सुलझाने को भी तो हम, जाने कितने बार हैं मिले
न जाने कैसे -२, हम भी तो उलझे ही मिले

पढ़ -२ के खत उनके, बस हम छिपाते ही मिले
और दुनियाँ के डर से, खुद को डराते ही मिले

बढ़ा के दिल की धड़कने, बस संभालते ही मिले
आँख मिल भी गईं तो, बस उसे चुराते ही मिले

चोरी-२ इश्क के , क्या अंजाम हैं मिले
वो तो कहीं और, किसी की बाहों में मिले

बस दिल को समझाने के, अब मौके भी न मिले
जो भी हमको मिले, बस ऐसे हादसे ही मिले

पढ़- २ के खत अब तो, दीवारों से पूछते ही मिले
देर हो गई इतनीं , खुद को समझाते ही मिले

खुशबुएँ उन खतों की, हम तो संभालते ही मिले
दरिया भी तो आग के, बस पार करते ही मिले

मुश्किलों के दौर से, हम गुजरते ही मिले
वक़्त के पड़ावों से ही, हम तो झगड़ते ही मिले

Lyrics By -Kamlesh Sanjida
Email Id – kavikamleshsanjida@gmail.com

Author
Kamlesh Sanjida
Name - Kamlesh Kumar Gautam Literary name: Kamlesh Sanjida Date of Birth - 1 January 1976 Father: Ram Hans Mother: Rama Birthplace - Kanpur Deh (Uttar Pradesh) Education - M. C.A. , M Tech Literature creation - Since 1987 Literary... Read more
Recommended Posts
भूले नहीं है
भूले नहीं है, तुमसे ही हमको, कितने जख्म मिले..२ दिल की सदा से, दिल को मिले थे, दिल को सितम मिले, रहती है दिल में,... Read more
माँ तेरे प्रेम की मुझको धारा मिले
माँ तेरे प्रेम की मुझको धारा मिले फिर मेरी जिंदगी को किनारा मिले १ जिंदगी भी मुझे दर्द देती रही माँ तेरी गोद का अब... Read more
नहीं मिले।
रद़ीफ़- नहीं मिले। क्यों इक हसीं ख्वाब सी है, किताब जिंदगी जब चाहा इसे पढलें तो साबूत पन्ने ही नहीं मिले। ढूंढा किए बहुत ज़ीस्त-ए-किताब... Read more
दो बह्र पर एक प्रयास
दो बहरी गजल:- 1बह्र:-2122-1122-112­2-112 2बह्र:-2122-2122-212­2-212 बेसबब रिश्ते -ओ-नातों के लिए बिफरे मिले।। जब मिले मुझको मेरे सपने बहुत उलझे मिले।। ज़िन्दगी जिनसे मिला सब ही... Read more