Skip to content

इश्क़ के हँसते-रोते फ़साने बहुत देखे ….

Awneesh kumar

Awneesh kumar

कविता

March 27, 2017

इश्क के हँसते-रोते फ़साने बहुत देखे
इश्क में खुशी-गम के तराने बहुत देखे
अब तो उचाइयो पे जाने से भी डरते है
इश्क में टूटते अच्छे-अच्छे सितारे बहुत देखे।(अवनीश कुमार)

Author
Awneesh kumar
नमस्कार अवनीश कुमार www.awneeshkumar.ga www.facebook.com/awneesh kumar
Recommended Posts
यही तो इश्क़ का दस्तूर है,
मैं जनता हूँ तू मुझसे दूर है, यही तो इश्क़ का दस्तूर है, लैला मजनू के पास होती, हीर रांझे की ना आस होती, गर... Read more
दो आफ़ताब (शायरी)
आज दो गुलाब एक साथ देखे, इतने हसीं ख्वाब एक साथ देखे। दिल की धड़कन ही रुक गयी थी, जब दो आफ़ताब एक साथ देखे।।... Read more
नहीं जाता।
कुछ रिश्ते साथ होकर भी,याद नहीं आते कुछ दूर हो फिर भी, भुलाया नहीं जाता। ये इश्क हर किसी को रास आए,सच नहीं कोई नहीं... Read more
थोड़ा इश्क़
तुम समय काटने के लिए, इश्क़ का सहारा लेते हो! ग़ालिब की ग़ज़ले सुनकर बड़े हुएं, और अब ग़ालिब से बड़ा होना चाहते हो! तुमने... Read more