.
Skip to content

आह्वान

सौम्या मिश्रा अनुश्री

सौम्या मिश्रा अनुश्री

हाइकु

March 25, 2017

उठो युवकों
नव जोश को भर
बनो चेतित

चेतना पूर्ण
होवे शाश्वत कर्म
नही पतित

हो स्वप्न सत्य
सत्य करो आह्वान
हो परिवर्तन

खत्म वेदना
दृढ भाव संचार
दृढ़ चेतना

लक्ष्य को जानो
करो ऊर्जा संचार
शक्ति को मानो

द्वेष मिटाओ
जीवन पहचानो
कैसा प्रहार

गले लगाओ
सभी से प्रेम करो
प्रेम आधार

Author
सौम्या मिश्रा अनुश्री
धीरे - धीरे बढ़ते कदम। नया सवेरा करने रौशन।। दो कदम तुम भी चलो, दो कदम हम भी बढ़ें, करने को शब्द गुंजन। कुछ हाँथ तुम भी बढ़ाओ, कुछ हाँथ हमारे भी बढ़ें, करने साहित्य में हवन। सुगमित अमिय हुआ... Read more
Recommended Posts
अभी पूरा आसमान बाकी है...
अभी पूरा आसमान बाकी है असफलताओ से डरो नही निराश मन को करो नही बस करते जाओ मेहनत क्योकि तेरी पहचान बाकी है हौसले की... Read more
अंदाज़ शायराना !
जैसा सम्मान हम खुद को देते है ! ठीक वैसा ही बाहर प्रतीत होता है ! जस् हमें खुद से प्रेम है ! तस् बाहर... Read more
मै भी भीग जाऊँ!!
मैं भी भीग जाऊँ। ........................ सोचता हूँ एकबार मैं भी भीग जाऊँ। इस बरसात प्रिय के साथ घनी जुल्फों की छाव में प्रियतम की बाहों... Read more
💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐 मदयुक्त भ्रमर के गुंजन सी, करती हो भ्रमण मेरे उर पर। स्नेह भरी लतिका लगती , पड़ जाती दृष्टि जभी तुम पर।। अवयव की... Read more