.
Skip to content

आपसे जो मिले खिल कमल हो गए

Dr Archana Gupta

Dr Archana Gupta

मुक्तक

September 21, 2016

दो मुक्तक
1
आपसे जो मिले खिल कमल हो गए
बोल भी प्यार की इक ग़ज़ल हो गए
ज़िन्दगी में मिली जो ख़ुशी आपसे
नैन भी बावरे हो सजल हो गए
2
बदल ये भले ही जमाना रहा है
मगर दर्द अपना पुराना रहा है
न आराम तन को , न है चैन में मन
कहाँ वक़्त पहला सुहाना रहा है

डॉ अर्चना गुप्ता

Author
Dr Archana Gupta
Co-Founder and President, Sahityapedia.com जन्मतिथि- 15 जून शिक्षा- एम एस सी (भौतिक शास्त्र), एम एड (गोल्ड मेडलिस्ट), पी एचडी संप्रति- प्रकाशित कृतियाँ- साझा संकलन गीतिकालोक, अधूरा मुक्तक(काव्य संकलन), विहग प्रीति के (साझा मुक्तक संग्रह), काव्योदय (ग़ज़ल संग्रह)प्रथम एवं द्वितीय प्रमुख... Read more
Recommended Posts
प्यार जबसे मिला खिल कमल हो गए
प्यार जबसे मिला खिल कमल हो गए नैन तुमसे मिले फिर सज़ल हो गए चुप रहे हम कहा कुछ नहीं था कभी पर अधर बावरे... Read more
(1 मुक्तक) -- हम तो अब कश्मीर हो गए, {और 1 अन्य}-- (2)जीवन
1)हम तो अब कश्मीर हो गए, बड़े ही हम मशहूर हो गए, भारत पाकिस्तान के खींचने में, हम तो थक के चूर हो गए। ??☺☺??... Read more
एक मुक्तक
एक मुक्तक ख़याल ही अब तो बे ख़याल हो गए जवाब भी अब तो ख़ुद सवाल हो गए जिनकी ख़ातिर मैंने लूटाया ख़ुद को उन्हीं... Read more
मुक्तक
गमों की आँच में हम गीत लिख नहीं पाए मिले जो आपसे वो प्रीत लिख नहीं पाए लिखा तो है मगर ये कौन सी लिखावट... Read more