.
Skip to content

** आदमी अर् गुंगळया में फर्क **

भूरचन्द जयपाल

भूरचन्द जयपाल

लघु कथा

May 10, 2017

गुंगळया इण माटी रे डगळा ने गुड़कांवता ले जावे है । मानखो गुंगळया
री भांति माथे रे बोझ ने लुड़कांवता जावे है । पण फेर भी माथे रो बोझ हळको नी होवे । भांत-भांत रे उत्तरदायित्व रो भार इतरो ज्यादा हो जावे है कि उण ने उतारतो-उतारतो ख़ुद ही तर जावे है । पण माथे रो बोझ हळको नी होवे । एक दूसरे ने टोपी पहणावण री कोशिश रै माय खुद बिना टोपी रह जावे है । इण बात रो पतो नी चाले कि खुद कठे है अर् मानखो कठे जा पुग्यो है । पिछड़ता. पिछड़ता इतरो थक जावे है कि उठ न चालण लायक नी रह जावे है ।
गुंगळया री भांति जिंदगी रो बोझ ढोवतों-ढोवतों ख़ुद गुड़क जावे है । दुनियां कई दिना बाद उण ने भूल जावे है कि कोई हुतो बपड़ो । जीवण फिरूं पैलां री भांति चालण लाग जावे है ।
मिनख अर् गुंगळयो एक ही भांति जीवन री गाडी ने गुड़कांवता चाले है अर इण दरमियान खुद ही गुड़क जावे है । चालतो रह जावे है । लोगा ने वहम हो जावे है कि इण जीवन री गाडी ने मैं ही गुड़कावां हाँ, ओ वहम आपस में बैर करावे है, नही तो जिंदगी इतरी सांतरी चालती कि रुकणे नाम ही ना लेंवती पण मिनख माया रो भरमावडो थपेड़ा खांवतो-खांवतो मौत री गोद में सो जावे है,पण उण रो वहम नी मिठे कि इण जिंदगाणी री गाडी ने हूं ही चलाऊँ हूं ।
इण वहम रे रेवता ही आदमी-आदमी कोनी बण पावे है अर मिनखपणो भूल जावे है ।अर गुंगळया री भांति रेंगता-रेंगता ही इण संसार सूं विदा हो जावे है । बस आदमी अर गुंगळया रे जीवण में इतरो ही फर्क है ।।
?मधुप बैरागी

Author
भूरचन्द जयपाल
मैं भूरचन्द जयपाल सेवानिवृत - प्रधानाचार्य राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय, कानासर जिला -बीकानेर (राजस्थान) अपने उपनाम - मधुप बैरागी के नाम से विभिन्न विधाओं में स्वरुचि अनुसार लेखन करता हूं, जैसे - गीत,कविता ,ग़ज़ल,मुक्तक ,भजन,आलेख,स्वच्छन्द या छंदमुक्त रचना आदि में... Read more
Recommended Posts
अंदाज़ शायराना !
जैसा सम्मान हम खुद को देते है ! ठीक वैसा ही बाहर प्रतीत होता है ! जस् हमें खुद से प्रेम है ! तस् बाहर... Read more
आस!
चाँद को चांदनी की आस धरा को नभ की आस दिन को रात की आस अंधेरे को उजाले की आस पंछी को चलने की आस... Read more
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है मगर छन भी आती कहीं रोशनी है न करती लबों से वो शिकवा शिकायत मगर बात नज़रों से... Read more
अभी पूरा आसमान बाकी है...
अभी पूरा आसमान बाकी है असफलताओ से डरो नही निराश मन को करो नही बस करते जाओ मेहनत क्योकि तेरी पहचान बाकी है हौसले की... Read more