Skip to content

आज का नवयुवक

डी. के. निवातिया

डी. के. निवातिया

कविता

January 9, 2017

आज का नवयुवक

अजीब हाल में दिखता है
आज का नवयुवक
जागा है मगर कुछ खोया खोया सा
हँसता भी है पर कुछ रोया-रोया सा
जीवन संघर्ष की इस दौड़ में
चला जा रहा वो किस डगर
नही जरा खुद को भी खबर…!!

बस चलता जाता है
सुनसान सा, अनजान सा
अज्ञान सा बेजान, बेजुबान सा
खो गया लगता है मंजिल अपनी
हुआ जाता है जैसे पथ भ्रष्ट भी….!!

उत्थान की इस तीव्र गति चकाचौंध में
सिमट के रह गया मोबाइल की ओट में
खो रहा आज जाने क्यों पहचान अपनी
ढलकर पाश्चात्य संस्कृति की होड़ में…!!

सम्भलो मेरे नौजवानो के वक्त अभी बाकी है
दुनिया को तुम्हे कौशल दिखाना अभी बाकि है
घर से लेकर देश तक संभालना अभी बाकी है
करो पथ प्रदर्शित के गर्व से चलना अभी बाकी है…!!

—-ःः डी. के. निवतियाँ ःः———

Author
डी. के. निवातिया
नाम: डी. के. निवातिया पिता का नाम : श्री जयप्रकाश जन्म स्थान : मेरठ , उत्तर प्रदेश (भारत) शिक्षा: एम. ए., बी.एड. रूचि :- लेखन एव पाठन कार्य समस्त कवियों, लेखको एवं पाठको के द्वारा प्राप्त टिप्पणी एव सुझावों का... Read more
Recommended Posts
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है मगर छन भी आती कहीं रोशनी है न करती लबों से वो शिकवा शिकायत मगर बात नज़रों से... Read more
अंदाज़ शायराना !
जैसा सम्मान हम खुद को देते है ! ठीक वैसा ही बाहर प्रतीत होता है ! जस् हमें खुद से प्रेम है ! तस् बाहर... Read more
इंसानियत से इंसान पैदा होते है !
एक बूंद हूँ ! बरसात की ! मोती बनना मेरी फिदरत ! गर मिल जाए, किसी सीपी का मुख खुला ! मनका भी हूँ... धागा... Read more
आस!
चाँद को चांदनी की आस धरा को नभ की आस दिन को रात की आस अंधेरे को उजाले की आस पंछी को चलने की आस... Read more