.
Skip to content

आओ भगत फिर आओ तुम

हेमा तिवारी भट्ट

हेमा तिवारी भट्ट

गीत

September 30, 2017

गीत-आओ भगत फिर आओ तुम
????????????
आओ भगत फिर आओ तुम
सोते है युवा जगाओ तुम
अंग्रेजी ज्यों शासन डोला
बारूदी फिर फैंको गोला
अलसाये सिंह उठाओ तुम।
आओ भगत फिर आओ तुम।
सेवा को वय मोहताज़ नहीं
समर्पण बिन कोई काज नहीं
कर्णधारों को समझाओ तुम।
आओ भगत फिर आओ तुम।
जब रंगा बसंती चोला था
कपटी सिंहासन डोला था
फिर इंकलाब दोहराओ तुम।
आओ भगत फिर आओ तुम।
दुश्मन अब नक्कारी का है
विष बेल सी मक्कारी का है
कैसे भी इन्हें हटाओ तुम।
आओ भगत फिर आओ तुम।
शहादत व्यर्थ न जा पाये
रग रग में खून खौल जाये
हर दिल में भगत दिखाओ तुम
आओ भगत फिर आओ तुम।
✍हेमा तिवारी भट्ट✍

Author
हेमा तिवारी भट्ट
लिखना,पढ़ना और पढ़ाना अच्छा लगता है, खुद से खुद का ही बतियाना अच्छा लगता है, राग,द्वेष न घृृणा,कपट हो मानव के मन में , दिल में ऐसे ख्वाब सजाना अच्छा लगता है
Recommended Posts
आओ चिड़िया रानी आओ
आओ चिड़िया रानी आओ फुदक फुदक कर नाच दिखाओ चहक चहक कर गीत सुनाओ आओ चिड़िया रानी आओ । आँगन में जब आती हो मन... Read more
तुम आओ (डॉ. विवेक कुमार)
तुम आओ इस तरह जैसे आती है नदियाँ सागर की लहरों में समा जाने के लिए। तुम आओ इस तरह आती है जैसे बेचैन व्यक्ति... Read more
चले आओ
फिर फहफिल सजाए चले आओ, किसी से दिल लगाये चले आओ, नफरतो में डूबा है जमाना, हम मोहब्बत फैलाये चले आओ, तुम अदा से नज़रें... Read more
तुम आओ तो बात बने
*गीत* *तुम आओ तो बात बने* ***** मीठा हर आघात बने। तुम आओ तो बात बने। आभासी परिवेशों से। चुरा याद अवशेषों से। मौन हृदय... Read more