Skip to content

अभी-अभी तो होश में आया हूँ मैं

अमरेश गौतम

अमरेश गौतम

गज़ल/गीतिका

July 10, 2016

न देखिये यूं तिरछी निगाहों से मुझे,
अभी-अभी तो होश में आया हूँ मैं।

मदहोश था अब तक उनकी आराईश में यूं,
लगता था खुद से ही पराया हूँ मैं।

कुछ पल तो एहसास हो जमाने को मेरे होने का,
मुद्दत से ही निज स्वार्थ में भरमाया हूँ मैं।

ये ज़र ये ज़मीं ये सारे एहतमाम,
अदावत हैं यहीं के वर्ना कहां से लाया हूँ मैं।

नहीं बाकी मेरे पास खोने को कुछ भी,
सब कुछ खोकर ही तो तुमको पाया हूँ मैं।

Author
अमरेश गौतम
कवि/पात्रोपाधि अभियन्ता
Recommended Posts
तुह्मत तो लाजवाब मिले, होश में हूँ मैं
मुझको तो अब शराब मिले, होश में हूँ मैं और वह भी बेहिसाब मिले, होश में हूँ मैं सच्चाइयों से ऊब चुका हूँ बुरी तरह... Read more
मैं इश्क करने आया हूँ ।
इसारा कर ऐ जिंदगी, मैं कुर्बान होने आया हूँ । नफरत भरे दिल में, वफ़ा का तोहफ़ा लाया हूँ । भुला सके तो भुला मुझे,... Read more
मैं शक्ति हूँ
" मैं शक्ति हूँ " """""""""""" मैं दुर्गा हूँ , मैं काली हूँ ! मैं ममता की रखवाली हूँ !! मैं पन्ना हूँ ! मैं... Read more
खामोश अकसर जब भी मैं रहता हूँ
खामोश अकसर जब भी मैं रहता हूँ। तुम समझते हो मैं चुप ही रहता हूँ। हर बार शब्दों का शोर नहीं मुमकिन इसलिए कभी यूं... Read more