.
Skip to content

अब तो छोड़ ओ मुसाफिर , हाय पैसे का जंजाल

कृष्ण मलिक अम्बाला

कृष्ण मलिक अम्बाला

कविता

November 17, 2016

अब तो छोड़ ओ मुसाफिर
हाय पैसे का जंजाल
पल भर में मिटटी हो जाये
मुद्रा ऐसी कमाल

संचित करने में जो गुजर गए
पिछले जो कई साल
जी लेता जिंदगी सुकून से
आते तो होंगे अब ये ख्याल

मोह किसी भी वस्तु का
होता अंत में दुखदायी
सम सन्तुलन से जी जिंदगी जिसने
उसी की किस्मत हुई फलदायी

मेरा मेरा करता रहा , खून अपना सोखकर
पल पल यूहीं जलता रहा , धन दूसरों का देखकर
अंतिम मंजिल एक ही सभी की , यही बात है क्यों भुलाई
हाय पैसे करते करते , क्यों आत्मा खुद ही की दुखायी ।

खर्च कर आमदन अनुसार , बात ये भी करे खुशहाल
हाय पैसे का छोड़ रे चक्कर , जी ख़ुशी से बेमिसाल
अब तो छोड़ ओ मुसाफिर,,,,,,,

रहीम जी भी कह गए , संचित धन होता दुखदायी
चैन सुख सब छीने रे , महिमा सच है बतलायी

अब बदलनी है प्रवृति , राम राज है लाने को
क्रान्ति जागृति की आ गयी , खुशहाली दिलाने को

ये माया (पैसा) होती रे मोहिनी , करे मति का नाश
मोह किया जिसने भी आज तक , हुआ उसी का विनाश
लिख दिया निचोड़ लेखनी ने , बेशक चलकर धीमी चाल
बस बात भविष्य में भी यही कहेंगे, रखना यही ख्याल
अब तो छोड़ ओ मुसाफिर ….

Author
कृष्ण मलिक अम्बाला
कृष्ण मलिक अम्बाला हरियाणा एवं कवि एवं शायर एवं भावी लेखक आनंदित एवं जागृत करने में प्रयासरत | 14 वर्ष की उम्र से ही लेखन का कार्य शुरू कर दिया | बचपन में हिंदी की अध्यापिका के ये कहने पर... Read more
Recommended Posts
गीत :- मैं एक मुसाफ़िर हूं
मैं एक मुसाफ़िर हूं दिल एक मुसाफ़िर है ना मेरी मंजिल है ना मेरा ठिकाना है मैं एक मुसाफ़िर हूं दिल एक मुसाफ़िर है जज़्बा... Read more
एक अजनबी हमसफर  बनने वाला हे !
कुछ पल का साथ अब हर पल का होने वाला हे ! देखते ही देखते एक अजनबी हमसफर बनने वाला हे ! छोडूगा न कभी... Read more
[[  तुम्ही हो  जिंदगी  मेरी  तुम्ही  हो  आसमाँ मेरा  ]]
✍ तुम्ही हो जिंदगी मेरी तुम्ही हो आसमाँ मेरा तुम्ही हो हमसफ़र मेरी तुम्ही हो राजदां मेरा नही अब हम अकेले है तुम्हारा साथ है... Read more
उस  पे  दुनियाँ  लुटाने  को  जी चाहता है
उस पे दुनियाँ लुटाने को जी चाहता है सुलूक-ए-इश्क़ आज़माने को जी चाहता है बड़े तकल्लुफ में गुज़री है ज़िंदगी कल तक आज कुछ बेबाक़... Read more