.
Skip to content

अब तक मेरी निगाहों में आया नही कोई

Shoaib Ashq

Shoaib Ashq

कव्वाली

January 26, 2017

अब तक मेरी निगाहों में आया नही कोई
 आका  हैं   जैसे आज भी वैसा   नही   कोई

मिसले नबी तो दुनिया में  कोई न है न होगा
यह शाने  लताफत  है  के  साया  नही कोई

ईमान मेरा   है  यही मेरा अकीदा है
सरकार के जलवों सा जलवा नही कोई

यारब कभी हो मुझको ज़ियारत मदिनें की
शहरे मदीना जैसा है वैसा नही कोई

ऐ  शाहे  दो जहाँ मुझे   चौखट पे बुलालो
तेरे सिवा “शोएब” का अपना  नही  कोई

Author
Shoaib Ashq
Recommended Posts
अभी पूरा आसमान बाकी है...
अभी पूरा आसमान बाकी है असफलताओ से डरो नही निराश मन को करो नही बस करते जाओ मेहनत क्योकि तेरी पहचान बाकी है हौसले की... Read more
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है मगर छन भी आती कहीं रोशनी है न करती लबों से वो शिकवा शिकायत मगर बात नज़रों से... Read more
अंदाज़ शायराना !
जैसा सम्मान हम खुद को देते है ! ठीक वैसा ही बाहर प्रतीत होता है ! जस् हमें खुद से प्रेम है ! तस् बाहर... Read more
💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐 मदयुक्त भ्रमर के गुंजन सी, करती हो भ्रमण मेरे उर पर। स्नेह भरी लतिका लगती , पड़ जाती दृष्टि जभी तुम पर।। अवयव की... Read more